Sunday, 13 November 2016

Best Children's Day Speech in Hindi & English | 14th November 2016

Children's Day Speech or Essay

CHILDREN'S DAY SPEECH , CHILDREN'S DAY SPEECH IN HINDI & ENGLISH
Children's Day is a day that most of the students wait for because the day is full of enjoyment. Looking for Children's Day Speech? Before getting started you should know that Children's Day is celebrated on 14 November, on the birthday of the first Prime Minister of independent India, who was fondly called Chacha Nehru (Uncle Nehru) or Chachaji (Uncle), and who emphasized the importance of giving love and affection to children, whom he saw as the bright future of India. He wanted to enhance the progress of Indian youth for which he established education institutes like AIIMS, Indian Institute of Technology. To give him tribute, India celebrates this festival on 14 November, the day of his birthday. If you have landed on this page, I think you're searching for the Children's Day Speech or Children's Day Essay to deliver on the function. Well, here you will find Children's Day Speech in Hindi & English .



CHILDREN'S DAY SPEECH IN ENGLISH/ CHILDREN'S DAY ESSAY IN ENGLISH  -

SPEECH #1 : 

Children's Day Speech
children s day




First of all, I would like to say a very good morning to everyone gathered here to celebrate the Children’s day today. At this occasion of children’s day, I would like speech about why the birth anniversary of Pt. Nehru is celebrated as children’s day. I wish you all my dear friends a very happy children’s day. It has been officially declared by the UN General Assembly to celebrate Children’s day on 20th of November, yet it is celebrated on 14th of November all over India annually on the account of birth anniversary of Jawaharlal Nehru. His birthday has been chosen to be celebrated as the children’s day because of his great love, care and affection to the children. He liked to talk and play with children for a long time. He wanted to be surrounded by the children all through his life. He worked hard for the betterment of children and youths of the country just after the independence of India on august 15, 1947.                                                                             
Pt. Jawaharlal Nehru was very much enthusiastic and warm-hearted towards children especially about their welfare, rights, education and overall improvement in order to make this country a develop nation. He was very inspiring and motivating in nature, he always inspired the children working hard and bravery works. He was very much concerned about the health and welfare of the children in India, so he worked hard for the children so that they can get their childhood rights. He was called as Chacha Nehru by the children because of his selfless affection to them. His birthday was started celebrating as children’s Day all across the India after his death in 1964.                                                
He always favored childhood and supported them to live proper childhood without any personal, social, national, family and financial responsibilities because they are the future of the nation and responsible for the country development. Childhood becomes the best phase of the life which should be healthy and happy of everyone so that they can be ready to lead their nation ahead. If the children are unhealthy from mind and body, they cannot give their best to their nation in the future. So, the childhood phase of the life is the most significant phase which every parent should nourish with their love, care, and affection. As being the citizen of the country, we should understand our responsibilities and save the future of the nation.                                                                                                
Children’s day is celebrated with lots of fun and frolic activities like games, sports, indoor games, outdoor games, dance, drama play, national songs, speech, essay writing etc. activities and all. This is the day which removes all the barriers against children and allows them to celebrate as they want. Students are motivated by the teachers to show their talents on this occasion by participating in the quiz competitions or another type of competitions like painting, modern dress show, singing, and cultural programs.
Thank You



SPEECH #2 :


14 november children day speech
14 november children day speech


Good morning to the respected Principal sir, teachers, and my dear friends. I would like to speech on this occasion of children’s day about the children’s day celebration and the importance of children. I am very grateful to my class teacher to give me such opportunity to speech on this occasion in front of you all. Children’s Day is celebrated on different dates in many countries, however, In India, it is celebrated on 14th of November every year to commemorate the birth day of Pandit Jawaharlal Nehru. Actually, the 14th of November is the birth anniversary of the Pandit Jawaharlal Nehru which is celebrated as the children’s day every year all over the India. 1st of June is celebrated as the International Children’s Day whereas 20th of November as Universal Children’s Day.                    
Pt. Jawaharlal Nehru was a true friend of the children. He loved to talk and play with children. He was the Prime Minister of India, however loved to remain among children by following his all the political responsibilities towards country. He was a very warm hearted person, always inspired and motivated children to be patriotic and happy citizen of the country. Children used to call him as Chacha Nehru because of his love and affection. He was very fond of the roses and children all through his life. Once he said that children are like the buds in the garden. He was very concerned about the condition of the children of the country as he understood children as the future of the country. He wanted that, children should be nurtured by the parents very carefully and lovingly for the bright future of the country.                                                                                        
He understood children as the real strength of the country. He loved children of both sexes equally and believed in giving equal opportunities to both for the actual development of the nation. His genuine love for the children became the reason of getting an endearing name as Chacha Nehru. In order to pay him a tribute, his birth anniversary is celebrated as children’s day all over India after his death in 1964. It is celebrated by organizing variety of activities such as singing, drama play, dancing, essay writing, storytelling, speech, quiz competitions, etc.                                                                  
Celebrating children’s day memorizes us about the importance of children in making the future of the country. This celebration make a call to every Indian citizen to protect their little ones from all harms by providing better childhood. Now-a-days, children are being victim of many social evils like drug, child abuse, alcohol, sex, hard labour, violence, etc. They are forced to earn little money for hard work in the very small age. They remain away from the healthy life, parents love, education, and other childhood happiness. Children’s day celebration helps us to think again and again about the status of children in the country. Children are the valuable asset of the nation as well as future and hope of tomorrow, so they should get proper care and love                                                                 .
Thank You



CHILDREN'S DAY SPEECH IN HINDI / CHILDREN'S DAY ESSAY IN HINDI 

SPEECH #1 :

children day celebration speech
children day celebration speech

आरंभ:                                                                                                                       
14 नवेंबर का दिन भारत में “ बॉल दिवस “ के रूप में मनाया जाता है, क्यूंकी इस दिन बच्चों के प्रिय चाचा पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्म हुआ था. नेहरू जी बच्चों से बहुत प्यार करते थे . उनका विश्वास था कि बच्चों पर ही देश का भविष्य निर्भर करता है . जो आज बच्चे हैं , कल वे ही देश के नेता होंगे . बच्चों की कोमल निर्मल मुस्कान में ही देश का उजला भविष्य नज़र आता है. बच्चों के कार्यकर्म को देखते हुए वो भाव विभोर हो जाते थे. उनका कहना था की “ बालकों की आत्मा पवित्र होती है “.                                                                                                    
बॉल दिवस का कार्यक्रम:                                                                                                  

देश के प्रत्येक छ्होटे बड़े नगर में बॉल दिवस मनाया जाता है. इस दिन स्कूल के छात्र एक स्थान पर इकट्ठे होते हैं. वहाँ पर अनेक प्रकार के खेलों के मुक़ाबले रखे जाते हैं बच्चे शारीरिक व्यायाम का प्रदर्शन भी करते हैं. गीत संगीत नृत्य और नाटक का कार्यक्रम भी रखा जाता है. चित्रकला की प्रायोगिता भी होती है. रंग बिरंगे वस्त्रों में सजे हंसते खेलते बच्चे उत्सव की शोभा को बढ़ाते हैं. बच्चों में पुरूस्कार और मिठाइयाँ बाँटी जाती हैं. पंडित नेहरू जब जीवित थे तो स्वयं इस उत्सव में शामिल होते थे और बच्चों के साथ हंसते खेलते थे.                                                                  
दिल्ली में स्मारोह:                                                                                                          
नई दिल्ली में बाल दिवस के उपलक्ष में नॅशनल स्टेडियम में मनोरंजक कार्यक्रम होता है. बच्चे पाठ संचालन, सामूहिक ड्रिल, नृत्य एवम् संगीत के रोचक कार्यक्रम दिखाते हैं. वर्ष में साहसिक कार्य करने वाले बच्चों को पुरूस्कार दिए जाते हैं. पंडित नेहरू इस उत्सव में अवश्य शामिल होते थे. उनकी मृत्यु के बाद ये परंपरा बन गयी की इस देश का प्रधानमंत्री इस उत्सव में भाग लेता है.
गत वर्ष हमारे युवा प्रधान मंत्री श्री राजीव गाँधी इस उत्सव में पधारे थे. नई दिल्ली की भाँति प्रत्येक राज्य की राजधानी और छ्होटे बड़े नगरों में बाल दिवस मनाया जाता है. इस उत्सव में विकलांग बच्चे भी भाग लेते हैं.                                                                                                      
अंत:                                                                                                                           

बाल दिवस हमें संदेश देता है की हम चाचा नेहरू की तरह देश भक्त और परिश्रमी बनें. उनके सपनों को पूरा करें. साथ ही यह राष्ट्र का भी कर्तव्य है की वह बच्चों की शिक्षा और स्वास्थ्य की तरफ पूरा ध्यान दें.



SPEECH #2 :

paragraph on children's day
paragraph on children's day

'बाल दिवस' 14 नवम्बर को मनाया जाता है। यह भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू का जन्मदिन होता है। इसी को बाल दिवस के रूप में मनाते हैं। पं. नेहरू को बच्चों से बहुत प्यार था और बच्चे उन्हें चाचा नेहरू पुकारते थे।                                                          
पं. नेहरू अपने देश को आज़ाद कराना चाहते थे। उनमें देश-भक्ति कूट-कूट कर भरी थी। स्वतंत्रता-संग्राम में उन्हें अनेक यातनाएं सहनी पड़ी। कई बार उनको जेल भेजा गया। सन 1947 में भारत को स्वतंत्रता मिली। नेहरूजी को प्रधानमन्त्री चुना गया। उन्होंने देश की गरीबी को दूर करने का प्रयत्न किया। वह भारत में समाजवाद का स्वप्न देखते थे। वे अपना सारा समय देश की समस्याओं को सुलझाने में व्यतीत करते थे।                                                                              
बाल दिवस बच्चों के लिए महत्वपूर्ण दिन होता है। इस दिन स्कूली बच्चे बहुत खुश दिखाई देते हैं। वे सज-धज कर विद्यालय जाते हैं। विद्यालयों में बच्चों के विशेष कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं। बच्चे चाचा नेहरू को प्रेम से स्मरण करते हैं। नृत्य, गान एवं नाटक आदि का आयोजन किया जाता है। बाल दिवस के अवसर पर केंद्र तथा राज्य सरकार बच्चों के भविष्य के लिए कई कार्यक्रमों की घोषणा करती है।

SPEECH #3 :

paragraph on children's day in english
paragraph on children's day in english




प्रधानाध्यापक, सर, मैडम और मेरे प्यारे साथियों को नमस्कार। हम सभी बहुत खुशी के साथ यहाँ बाल दिवस मनाने के लिए एकत्र हुये हैं। मैं बाल दिवस के इस अवसर पर अपने विचार रखना चाहता/चाहती हूँ। बच्चे परिवार में, घर में, समाज में खुशी का कारण होने के साथ ही देश का भविष्य भी होते हैं। हम पूरे जीवन भर माता-पिता, शिक्षकों और अन्य संबंधियों के जीवन में बच्चों की भागीदारी और योगदान को नजअंदाज नहीं कर सकते। बच्चे सभी के द्वारा पसंद किए जाते हैं और बिना बच्चों के जीवन बहुत ही नीरस हो जाता है। वे भगवान का आशीर्वाद होते हैं और अपनी सुन्दर आँखों, मासूम गतिविधियों और मुस्कान से हमारे दिल को जीत लेते हैं। बाल दिवस प्रत्येक वर्ष पूरे संसार में बच्चों को श्रद्धांजलि देने के लिए मनाया जाता है।                                      
यह विभिन्न देशों में अलग-अलग तिथियों को मनाया जाता है हालांकि, यह भारत में 14 नवम्बर को मनाया जाता है। वास्तव में 14 नवम्बर महान स्वतंत्रता सेनानी और स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री (पं. जवाहर लाल नेहरु) का जन्म दिवस है हालांकि, बच्चों के प्रति उनके लगाव और स्नेह की वजह से इस दिन को बाल दिवस के रुप में मनाया जाता है। वे एक राजनीति नेता थे फिर भी, उन्होंने बच्चों के साथ बहुत ही कीमती वक्त बिताया और उनकी मासूमियत से वो बहुत प्यार करते थे। बाल दिवस का उत्सव मस्ती और उल्लास की बहुत सारी गतिविधियाँ लाता है। इस दिन का उत्सव बच्चों के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को नवीनीकृत करने की याद दिलाता है, जिसमें बच्चों का कल्याण, उचित स्वास्थ्य, देखभाल, शिक्षा, आदि शामिल है। बच्चों को चाचा नेहरु के आदर्शों और बहुत सारा प्यार और स्नेह दिया जाता है। यह बच्चों के गुणों की प्रशंसा करने का अवसर है।                                                                                                                    
बच्चों को किसी भी मजबूत राष्ट्र की नींव की ईंट माना जाता है। बच्चे छोटे होते हैं किन्तु राष्ट्र में सकारात्मक परिवर्तन करने की क्षमता रखते हैं। वे आने वाले कल के जिम्मेदार नागरिक हैं क्योंकि देश का विकास उन्हीं के हाथों में है। बाल दिवस उत्सव उन अधिकारों की भी याद दिलाता है, जो बच्चों के लिए बनाये गए हैं और उनसे बच्चे लाभान्वित हो भी रहे हैं, या नहीं। बच्चे कल के नेता हैं इसलिए उन्हें अपने अभिभावकों, शिक्षकों और परिवार के अन्य सदस्यों से आदर, विशेष देख-रेख और सुरक्षा की आवश्यकता है। हमारे राष्ट्र में बहुत तरीकों से परिवार के सदस्यों, संबंधियों, पड़ौसियों या अन्य अजनबियों के द्वारा उनका शोषण किया जाता है। बाल दिवस का उत्सव परिवार, समाज और देश में बच्चों के महत्व को याद दिलाता है। बच्चों के कुछ सामान्य अधिकार निम्नलिखित हैं जो उन्हें अवश्य प्राप्त होने चाहिए।                                                  
उन्हें परिवार और अभिभावकों के द्वारा उचित देखभाल और प्यार मिलना चाहिए।
उन्हें स्वास्थ्यवर्धक खाना, स्वच्छ कपड़े और सुरक्षा जरुर मिलनी चाहिए।
उन्हें रहने के लिए स्वस्थ्य वातावरण प्राप्त होना चाहिए जहाँ वो घर, स्कूल या अन्य स्थानों पर सुरक्षित महसूस कर सकें।
उन्हें उचित और अच्छे स्तर की शिक्षा मिलनी चाहिए।
उन्हें विकलांग या बीमार होने पर विशेष देखरेख मिलनी चाहिए।                                                      
एक सुन्दर राष्ट्र का निर्माण करने के लिए हमें एकजुट होकर देश के नेताओं का वर्तमान और भविष्य सुनिश्चित करने की शपथ लेनी चाहिए।
धन्यवाद।

CONCLUSION : 


Well, these were the Children's Day Speech in English & Children's Day Speech in Hindi. If you liked the Children's Day Essay, make sure to share it. Happy Children's Day . :D


0 comments

Post a Comment